150+ Sharabi Shayari in Hindi (Jabardast Sharabi Shayari)

Sharabi Shayari, Sharabi Shayari in Hindi, Jabrdast Sharabi Shayari, Jabrdast Sharabi Shayari in Hindi, New Sharabi Shayari, New Sharabi Shayari in Hindi

Sharabi Shayari दोस्तों अपने हर दर्द को कम करने के लिए लोग शराब का सहारा लेते हैं। ख़ुशी, गम या तन्हाई को बाँटने के लिए Sharabi Shayari Best Shayari है।

शराब शरीर को खत्म करती है,
शराब समाज को खत्म करती है…!!

रोक दो मेरे जनाज़े को ज़ालिमों,
मुझ में जान आ गयी है…!!

अभी तो इश्क़ हुआ है,
मंज़िल तो मयखाने में मिलेगी…!!

Sharabi Shayari, Sharabi Shayari in Hindi, Jabrdast Sharabi Shayari, Jabrdast Sharabi Shayari in Hindi, New Sharabi Shayari, New Sharabi Shayari in Hindi
Sharabi-Shayari

मत कर हंगामा पीकर हमारी गली में,
हम तो खुद बदनाम है तेरी मोहब्बत के नशे में…!!

बैठे हैं दिल में ये अरमां जगाये,
के वो आज नजरों से अपनी पिलाये…!!

पीते थे शराब हम,
उसने छुड़ाई अपनी कसम देकर,
महफ़िल में गए थे हम,
यारों ने पिलाई उसकी कसम देकर…!!

हर शाम का साथी हैं शराब,
फिर क्यों लोग कहते हैं इसे ख़राब…!!

Sharabi Shayari, Sharabi Shayari in Hindi, Jabrdast Sharabi Shayari, Jabrdast Sharabi Shayari in Hindi, New Sharabi Shayari, New Sharabi Shayari in Hindi
Sharabi-Shayari

पीने से कर चुका था मैं तौबा मगर जलील,
बादल का रंग देख के नीयत बदल गई…!!

एक शराब की बोतल दबोच रखी है,
तुजे भुलाने की तरकीब सोच रखी है…!!

साथ में दोस्त हो हाथ में जाम हो,
जिंदगी जीने का बस मज़ा ही मज़ा हो…!!

कुछ नशा तो आपकी बात का है,
कुछ नशा तो धीमी बरसात का है…!!

Sharabi Shayari, Sharabi Shayari in Hindi, Jabrdast Sharabi Shayari, Jabrdast Sharabi Shayari in Hindi, New Sharabi Shayari, New Sharabi Shayari in Hindi
Sharabi-Shayari

मदहोश कर देता है तेरे ये देखने का अंदाज़,
और लोग सोचते हैं कि हम पीते बहुत हैं…!!

कुछ सही तो कुछ खराब कहते हैं,
लोग हमें बिगड़ा हुआ नवाब कहते हैं…!!

हमें आप यूँ ही शराबी ना कहिये,
इस दिल पर असर तो आप से मुलाकात का है…!!

तेरी यादों को अपने सीने से लगा लेता हूँ,
और शाम होते ही मैं दो जाम लगा लेता हूँ…!!

Sharabi Shayari, Sharabi Shayari in Hindi, Jabrdast Sharabi Shayari, Jabrdast Sharabi Shayari in Hindi, New Sharabi Shayari, New Sharabi Shayari in Hindi
Sharabi-Shayari

थोड़ी सी पी शराब थोड़ी उछाल दी,
कुछ इस तरह से हमने जवानी निकाल दी…!!

अब के सावन में सबका हिसाब कर दूँगा,
जिसका जो वाकी है वो भी हिसाब कर दूँगा…!!

और मुझे इस गिलास में ही कैद रख वरना,
पूरे शहर का पानी शराब कर दूँगा…!!

तुम क्या जानो शराब कैसे पिलाई जाती है,
खोलने से पहले बोतल हिलाई जाती है…!!

Sharabi Shayari, Sharabi Shayari in Hindi, Jabrdast Sharabi Shayari, Jabrdast Sharabi Shayari in Hindi, New Sharabi Shayari, New Sharabi Shayari in Hindi
Sharabi-Shayari

मयखाने बंद कर दे चाहे लाख दुनिया वाले,
लेकिन शहर में कम नही है निगाहों से पिलाने वाले…!!

तूँ डालता जा साकी शराब मेरे प्यालो में,
जब तक ‘वो’ न निकले मेरे ख्यालों से…!!

यार तो अक्सर मदिरालय मे हीं मिलते हैं,
वरना अपने तो मंदिर में भी मुँह मोड़ते हैं…!!

सुना है मोहब्बत कर ली तुमने भी,
अब किधर मिलोगे पागलखाने या मैखाने…!!

Sharabi Shayari, Sharabi Shayari in Hindi, Jabrdast Sharabi Shayari, Jabrdast Sharabi Shayari in Hindi, New Sharabi Shayari, New Sharabi Shayari in Hindi
Sharabi-Shayari

प्यार के नाम पे यहाँ तो लोग खून पीते हैं,
मुझे खुद पे नाज़ है की मैं सिर्फ शराब पीता हूँ…!!

शराब और मेरा कई बार ब्रेकअप हो चुका है,
पर कमबख्त हर बार मुझे मना लेती है…!!

लड़खड़ाये कदम तो गिरे उनकी बाँहों मे,
आज हमारा शराब पीना ही हमारे काम आ गया…!!

पर्दा तो होश वालों से किया जाता है हुज़ूर,
तुम बेनक़ाब चले आओ हम तो नशे में हैं…!!

Sharabi Shayari, Sharabi Shayari in Hindi, Jabrdast Sharabi Shayari, Jabrdast Sharabi Shayari in Hindi, New Sharabi Shayari, New Sharabi Shayari in Hindi
Sharabi-Shayari

मैखाने मे आऊंगा मगर पिऊंगा नही साकी,
ये शराब मेरा गम मिटाने की औकात नही रखती…!!

जाम पीने का मज़ा जिंदगी जीने से ज्यादा है,
अगर इसे न पिया तो जिंदगी जीने का मज़ा क्या है…!!

गम इस कदर मिला की घबरा के पी गये,
खुशी थोड़ी सी मिली तो मिला के पी गये…!!

यूँ तो ना थी जनम से पीने की आदत,
शराब को तन्हा देखा तो तरस खा के पी गये…!!

Sharabi Shayari, Sharabi Shayari in Hindi, Jabrdast Sharabi Shayari, Jabrdast Sharabi Shayari in Hindi, New Sharabi Shayari, New Sharabi Shayari in Hindi
Sharabi-Shayari

कुछ तो शराफ़त सीख ले ए-इश्क़ शराब से,
बोतल पे लिखा तो है मैं जान लेवा हूँ…!!

जब दिल टूटता है तो आँसू उनके भी निकलते हैं,
जो कहते हैं कि मर्द को दर्द नहीं होता…!!

सिगरेट के साथ बुझ गया सितारा शाम का,
मयखाने पुकारे ग्लास की उम्र होने आई है…!!

पी लिया करते हैं जीने की तमन्ना में कभी,
डगमगाना भी ज़रूरी है संभलने के लिए…!!

Sharabi Shayari, Sharabi Shayari in Hindi, Jabrdast Sharabi Shayari, Jabrdast Sharabi Shayari in Hindi, New Sharabi Shayari, New Sharabi Shayari in Hindi
Sharabi-Shayari

मैखाने से दीवानों का रिश्ता है पुराना,
दिल मिले तो मैखाना, दिल टूटे तो मैखाना…!!

के आज तो शराब ने भी अपना रंग दिखा दिया,
दो दुश्मनो को गले से लगा दोस्त बना दिया…!!

ये तो देखा कि मेरे हाथ में पैमाना है,
ये न देखा कि ग़म-ए-इश्क़ को समझाना है…!!

ख़ुद अपनी मस्ती है जिस ने मचाई है हलचल,
नशा शराब में होता तो नाचती बोतल…!!

Sharabi Shayari, Sharabi Shayari in Hindi, Jabrdast Sharabi Shayari, Jabrdast Sharabi Shayari in Hindi, New Sharabi Shayari, New Sharabi Shayari in Hindi
Sharabi-Shayari

हम तो बदनाम हुए कुछ इस कदर,
कि पानी भी पियें तो लोग शराब कहते हैं…!!

ना ज़ख्म भरे, ना शराब सहारा हुई,
ना वो वापस लौटे, ना मोहब्बत दोबारा हुई…!!

मिलावट है तेरे इश्क में इत्र और शराब की,
कभी हम महक जाते हैं कभी हम बहक जाते हैं…!!

खाली जाम लिए बैठे हो उन आँखों की बात करो,
रात बहुत है प्यास बहुत है बरसातों की बात करो…!!

Sharabi Shayari, Sharabi Shayari in Hindi, Jabrdast Sharabi Shayari, Jabrdast Sharabi Shayari in Hindi, New Sharabi Shayari, New Sharabi Shayari in Hindi
Sharabi-Shayari

मजा तो तब ही आये पीने का यारो,
शराब हम पियें और नशा उनको हो जाए…!!

ज़िन्दगी है जीने की लिए तो जिया क्यों ना जाए,
उसकी बेवफाई ने दिया मौका तो पिया क्यों ना जाए…!!

या खुदा ‘दिल’ तो तुडवा दिया तूने इश्क के चक्कर में,
कम से कम ‘लीवर’ तो संभालना दारु पीने के लिए…!!

जाम तो उनके लिए है, जिन्हें नशा नहीं होता,
हम तो दिनभर “तेरी यादों के नशे में यूँ ही डूबे रहते हैं…!!

Sharabi Shayari, Sharabi Shayari in Hindi, Jabrdast Sharabi Shayari, Jabrdast Sharabi Shayari in Hindi, New Sharabi Shayari, New Sharabi Shayari in Hindi
Sharabi-Shayari

दिल के दर्द से बड़ा कोई दर्द नहीं होता,
आशिकों का शराब के सिवा,
कोई हमदर्द नहीं होता…!!

तेरी आँखों से यूँ तो सागर भी पिए है मैंने,
तुझे क्या खबर जुदाई के दिन कैसे जिए है मैंने…!!

आओ आज इस शराब को खत्म करते हैं,
एक बोतल तुम खत्म करो, एक बोतल हम खत्म करते हैं…!!

चुप चाप चल रहे थे अपनी मंज़िल की ओर,
फिर ठेके पर नज़र पड़ी और गुमराह से हो गये हम…!!

Sharabi Shayari, Sharabi Shayari in Hindi, Jabrdast Sharabi Shayari, Jabrdast Sharabi Shayari in Hindi, New Sharabi Shayari, New Sharabi Shayari in Hindi
Sharabi-Shayari

तुम्हारी आँखों की तौहीन है जरा सोंचो,
तुम्हारा चाहने वाला शराब पीता है…!!

मंदिरो मे हिंदू देखे मस्जिदो में मुसलमान,
शाम को जब मयखाने गया तब जाकर दिखे इन्सान…!!

मोहब्बत भी उस मोड़ पे पहुँच चुकी है,
कि अब उसको प्यार से भी मेसेज करो,
तो वो पूछती है कितनी पी है…!!

हम ने मोहब्बत के नशे में आकर,
उसे खुदा बना डाला,
होश तब आया जब उस ने कहा,
कि खुदा किसी एक का नहीं होता…!!

Sharabi Shayari, Sharabi Shayari in Hindi, Jabrdast Sharabi Shayari, Jabrdast Sharabi Shayari in Hindi, New Sharabi Shayari, New Sharabi Shayari in Hindi
Sharabi-Shayari

बहकने के लिए तेरा एक ख्याल ही काफी है,
हाथो मे हो फ़िर से कोई जाम ज़रूरी तो नहीं…!!

जाम तो यू ही बदनाम है,
यारों कभी इश्क करके देखो,
या तो पीना भूल जाओगे या फिर,
पी-पी के जीना भूल जाओगे…!!

महफ़िल में इस कदर पीने का दौर था,
हमको पिलाने के लिए सबका जोर था,
पी गए हम इतनी यारो के कहने पर,
न अपना गौर था न ज़माने का गौर था…!!

रख ले 2-4 बोतल कफ़न में,
साथ बैठ कर पिया करेंगे,
जब माँगे गा हिसाब गुनाहों का,
एक पेग उसे भी दे दिया करेंगे…!!

Sharabi Shayari, Sharabi Shayari in Hindi, Jabrdast Sharabi Shayari, Jabrdast Sharabi Shayari in Hindi, New Sharabi Shayari, New Sharabi Shayari in Hindi
Sharabi-Shayari

पिलाने वाले कुछ तो पिला दिया होता,
शराब कम थी तो पानी मिला दिया होता…!!

पानी में विस्की मिलाओ तो नशा चड़ता है,
पानी में रम मिलाओ तो नशा चड़ता है,
पानी में ब्रेंड़ी मिलाओ तो नशा चड़ता है,
साला पानी में ही कुछ गड़बड़ है…!!

तन्हाई में भी कहते है लोग,
जरा महफ़िल में जिया करो,
पैमाना लेके बिठा देते है मैखाने में,
और कहते है जरा तुम कम पिया करो…!!

तोफहे में मत गुलाब लेकर आना,
मेरी कब्र पर मत चिराग लेकर आना,
बहुत प्यासा हूँ बरसो से मैं,
जब भी आना शराब लेकर आना…!!

आँखें है उनकी या है शराब का मेहखना,
देख कर जिनको हो गया हूँ मै दीवाना,
होठ है उनके या है कोई रसीला जाम,
जिनके एहसास की तम्मना मे बीती है मेरी हर शाम…!!

Sharabi Shayari में दोस्तों आप सभी को Sharabi Shayari Collection केसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताना। साथ ही अपने दोस्तों और जानकारों के साथ शेयर करना तो बिलकुल भी न भूलें।