Mirza Ghalib Shayari in Hindi (Mirza Ghalib Best Shayari)

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi

Mirza Ghalib Shayari दोस्तों जहाँ पर सबसे Best शेरो-शायरी की बात होती है। वहाँ Mirza Ghalib को सबसे पहले याद किया जाता है। क्योंकि Mirza Ghalib एक महान शायर थे।

Mirza Ghalib Shayari में Mirza Ghalib ने अपना पूरा जीवन शेरो-शायरी में व्यतीत कर दिया था। जिनको दुनिया के महान शायरों में गिना जाता है। Mirza Ghalib की शेरो-शायरी ने दुनियाँ में सभी के दिलों में जगह बना रखी है।

फिर उसी बेवफा पे मरते हैं,
फिर वही ज़िन्दगी हमारी है…!!

Mirza Ghalib

साज़-ए-दिल को गुदगुदाया इश्क़ ने,
मौत को लेकर जवानी आ गई…!!

Mirza Ghalib

मैं तो इस सादगी-ए-हुस्न पे सदक़े,
न जफ़ा आती है जिसको न वफ़ा आती है…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ायल,
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है…!!

Mirza Ghalib

हम भी दुश्मन तो नहीं हैं अपने,
ग़ैर को तुझ से मोहब्बत ही सही…!!

Mirza Ghalib

कुछ तो तन्हाई की रातों में सहारा होता,
तुम न होते न सही ज़िक्र तुम्हारा होता…!!

Mirza Ghalib

गुज़र रहा हूँ यहाँ से भी गुज़र जाउँगा,
मैं वक़्त हूँ कहीं ठहरा तो मर जाउँगा…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

आशिक़ी सब्र तलब और तमन्ना बेताब,
दिल का क्या रंग करूँ खून-ए-जिगर होने तक…!!

Mirza Ghalib

गुज़रे हुए लम्हों को मैं इक बार तो जी लूँ,
कुछ ख्वाब तेरी याद दिलाने के लिए हैं…!!

Mirza Ghalib

आशिक़ी सब्र तलब और तमन्ना बेताब,
दिल का क्या रंग करूँ खून-ए-जिगर होने तक…!!

Mirza Ghalib

मत पूँछ की क्या हाल हैं मेरा तेरे पीछे ,
तू देख की क्या रंग हैं तेरा मेरे आगे…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

हैं और भी दुनिया में सुखनवर बहुत अच्छे,
कहते हैं कि ग़ालिब का है अंदाज़-ए-बयाँ और…!!

Mirza Ghalib

ऐ बुरे वक़्त ज़रा अदब से पेश आ ,
क्यूंकि वक़्त नहीं लगता वक़्त बदलने में…!!

Mirza Ghalib

इस सादगी पर कौन ना मर जाये,
लड़ते है और हाथ में तलवार भी नहीं…!!

Mirza Ghalib

ज़ाहिद शराब पीने दे मस्जिद में बैठ कर ,
या वह जगह बता जहाँ खुदा नहीं…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

इश्क़ पर जोर नहीं है ये वो आतिश ग़ालिब,
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने…!!

Mirza Ghalib

उनके देखे जो आ जाती है रौनक
वो समझते है कि बीमार का हाल अच्छा है…!!

Mirza Ghalib

जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा,
कुरेदते हो जो अब राख, जुस्तजू क्या है…!!

Mirza Ghalib

दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई,
दोनों को एक अदा में रज़्ज़ामंद कर गई…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

इश्क से तबियत ने जीस्त का मजा पाया,
दर्द की दवा पाई दर्द बे-दवा पाया…!!

Mirza Ghalib

कितना खौफ होता है शाम केअँधेरे में,
पूँछ उन परिंदों से जिन के घर् नहीं होते…!!

Mirza Ghalib

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना,
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना…!!

Mirza Ghalib

इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतश ग़ालिब,
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

आता है दाग-ए-हसरत-ए-दिल का शुमार याद,
मुझसे मेरे गुनाह का हिसाब ऐ खुदा न माँग…!!

Mirza Ghalib

कहते हैं जीते हैं उम्मीद पे लोग,
हम को जीने की भी उम्मीद नहीं…!!

Mirza Ghalib

की वफ़ा हम से तो ग़ैर इस को बेवफ़ा कहते हैं,
होती आई है कि अच्छों को बुरा कहते हैं…!!

Mirza Ghalib

यह इश्क़ नहीं आसान बस इतना समझ लीजिये,
एक आग का दरया है और डूब कर जाना है…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

आया है बे-कसी-ए-इश्क पे रोना ग़ालिब,
किसके घर जायेगा सैलाब-ए-बला मेरे बाद…!!

Mirza Ghalib

आया है बेकसी-ए-इश्क पे रोना ग़ालिब,
किसके घर जायेगा सैलाब-ए-बला मेरे बाद…!!

Mirza Ghalib

ये न थी हमारी किस्मत कि विसाल-ए-यार होता,
अगर और जीते रहते यही इंतज़ार होता…!!

Mirza Ghalib

इश्क़ ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया,
वर्ना हम भी आदमी थे काम के…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

तेरी वफ़ा से क्या हो तलाफी की दहर में,
तेरे सिवा भी हम पे बहुत से सितम हुए…!!

Mirza Ghalib

आता है दाग-ए-हसरत-ए-दिल का शुमार याद,
मुझसे मेरे गुनाह का हिसाब ऐ-खुदा न माँग…!!

Mirza Ghalib

वो आए घर में हमारे खुदा की क़ुदरत है,
कभी हम उमको कभी अपने घर को देखते हैं…!!

Mirza Ghalib

ज़िन्दगी उसकी जिस की मौत पे, ज़माना अफ़सोस करे ग़ालिब,
यूँ तो हर शक्श आता हैं इस दुनिया में मरने कि लिए…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

चाँदनी रात के खामोश सितारों की कसम,
दिल में अब तेरे सिवा कोई भी आबाद नहीं…!!

Mirza Ghalib

हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी के हर ख्वाहिश पे दम निकले,
बहुत निकले मेरेअरमान लेकिन फिर भी कम निकले…!!

Mirza Ghalib

मासूम मोहब्बत का बस इतना फ़साना है,
कागज़ की हवेली है बारिश का ज़माना है…!!

Mirza Ghalib

हर एक बात पे कहते हो तुम कि तूँ क्या है,
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तगू क्या है…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना,
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना…!!

Mirza Ghalib

ज़िन्दगी अपनी जब इस शक्ल से गुज़री,
हम भी क्या याद करेंगे कि ख़ुदा रखते थे…!!

Mirza Ghalib

ग़ालिब बुरा न मान जो वाइज़ बुरा कहे,
ऐसा भी कोई है कि सब अच्छा कहें जिसे…!!

Mirza Ghalib

इश्क से तबियत ने जीस्त का मजा पाया,
दर्द की दवा पाई दर्द बे-दवा पाया…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

तुम न आओगे तो मरने की हैं सौ तदबीरें,
मौत कुछ तुम तो नहीं है कि बुला भी न सकूँ…!!

Mirza Ghalib

क़र्ज़ की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि हां,
रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन…!!

Mirza Ghalib

हैं और भी दुनिया में सुख़न-वर बहुत अच्छे,
कहते हैं कि ‘ग़ालिब’ का है अंदाज़-ए-बयाँ और…!!

Mirza Ghalib

निकलना ख़ुल्द से आदम का सुनते आए हैं लेकिन,
बहुत बे-आबरू हो कर तीर-ए-कूचे से हम निकले…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

उनके देखने से जो आ जाती है चेहरे पर रौनक,
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है…!!

Mirza Ghalib

मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का,
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले…!!

Mirza Ghalib

आईना देख के अपना सा मुँह लेके रह गए,
साहब को दिल न देने पे कितना गुरूर था…!!

Mirza Ghalib

हुई मुद्दत कि ‘ग़ालिब’ मर गया पर याद आता है,
वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

मत पूँछ की क्या हाल हैं मेरा तेरे पीछे,
तूँ देख की क्या रंग हैं तेरा मेरे आगे…!!

Mirza Ghalib

दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है,
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है…!!

Mirza Ghalib

बिजली इक कौंध गयी आँखों के आगे तो क्या,
बात करते कि मैं लब तश्न-ए-तक़रीर भी था…!!

Mirza Ghalib

यही है आज़माना तो सताना किसको कहते हैं,
औरों के हो लिए जब तुम तो मेरा इम्तहां क्यों हो…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

ऐ बुरे वक़्त ज़रा अदब से पेश आ,
क्योंकि वक़्त नहीं लगता वक़्त बदलने में…!!

Mirza Ghalib

हमको मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन,
दिल के खुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख़याल अच्छा है…!!

Mirza Ghalib

हाथों की लकीरों पे मत जा ऐ गालिब,
नसीब उनके भी होते हैं जिनके हाथ नहीं होते…!!

Mirza Ghalib

नज़र लगे न कहीं उसके दस्त-ओ-बाज़ू को,
ये लोग क्यूँ मेरे ज़ख़्मे जिगर को देखते हैं…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

ज़ाहिद शराब पीने दे मस्जिद में बैठ कर ,
या वह जगह बता जहाँ खुदा नहीं…!!

Mirza Ghalib

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ायल,
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है…!!

Mirza Ghalib

कोई मेरे दिल से पूछे तिरे तीर-ए-नीम-कश को,
ये ख़लिश कहाँ से होती जो जिगर के पार होता…!!

Mirza Ghalib

बाज़ीचा-ए-अतफ़ाल है दुनिया मेरे आगे,
होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मेरे आगे…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

इस सादगी पर कौन ना मर जाये,
लड़ते है और हाथ में तलवार भी नहीं…!!

Mirza Ghalib

कुछ लम्हे हमने ख़र्च किए थे मिले नही,
सारा हिसाब जोड़ के सिरहाने रख लिया…!!

Mirza Ghalib

भीगी हुई सी रात में जब याद जल उठी,
बादल सा इक निचोड़ के सिरहाने रख लिया…!!

Mirza Ghalib

अब अगले मौसमों में यही काम आएगा,
कुछ रोज़ दर्द ओढ़ के सिरहाने रख लिया…!!

Mirza Ghalib

वो रास्ते जिन पे कोई सिलवट ना पड़ सकी,
उन रास्तों को मोड़ के सिरहाने रख लिया…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा,
कुरेदते हो जो अब राख, जुस्तजू क्या है…!!

Mirza Ghalib

अफ़साना आधा छोड़ के सिरहाने रख लिया,
ख़्वाहिश का वर्क़ मोड़ के सिरहाने रख लिया…!!

Mirza Ghalib

तमीज़-ए-ज़िश्ती-ओ-नेकी में लाख बातें हैं,
ब-अक्स-ए-आइना यक-फ़र्द-ए-सदां रखते हैं…!!

Mirza Ghalib

रंज से ख़ूगर हुआ इंसाँ तो मिट जाता है रंज,
मुश्किलें मुझ पर पड़ीं इतनी कि आसाँ हो गईं…!!

Mirza Ghalib

हसद से दिल अगर अफ़्सुर्दा है गर्म-ए-तमाशा हो,
कि चश्म-ए-तंग शायद कसरत-ए-नज़्ज़ारा से वा हो…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई,
दोनों को एक अदा में रज़्ज़ा मंद कर गए…!!

Mirza Ghalib

हम तो जाने कब से हैं आवारा-ए-ज़ुल्मत मगर,
तुम ठहर जाओ तो पल भर में गुज़र जाएगी रात…!!

Mirza Ghalib

दैर नहीं हरम नहीं दर नहीं आस्ताँ नहीं,
बैठे हैं रहगुज़र पे हम ग़ैर हमें उठाए क्यों…!!

Mirza Ghalib

हो उसका ज़िक्र तो बारिश सी दिल में होती है,
वो याद आये तो आती है दफ’तन ख़ुशबू…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

कितना खौफ होता है शाम के अंधेरे में,
पूँछ उन परिंदों से जिन के घर नहीं होते…!!

Mirza Ghalib

इक शौक़ बड़ाई का अगर हद से गुज़र जाए
फिर ‘मैं’ के सिवा कुछ भी दिखाई नहीं देता…!!

Mirza Ghalib

इक क़ैद है आज़ादी-ए-अफ़्कार भी गोया,
इक दाम जो उड़ने से रिहाई नहीं देता…!!

Mirza Ghalib

इक आह-ए-ख़ता गिर्या-ब-लब सुब्ह-ए-अज़ल से,
इक दर है जो तौबा को रसाई नहीं देता…!!

Mirza Ghalib

इक क़ुर्ब जो क़ुर्बत को रसाई नहीं देता,
इक फ़ासला अहसास-ए-जुदाई नहीं देता…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari, Mirza Ghalib Shayari in Hindi, mirza Ghalib Best Shayari, mirza Ghalib Best Shayari in Hindi, Letest Mirza Ghalib Shayari, Letest Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Mirza-Ghalib-Shayari

मासूम मोहब्बत का बस इतना फ़साना है,
कागज़ की हवेली है बारिश का ज़माना है…!!

Mirza Ghalib

ज़िन्दग़ी में तो सभी प्यार किया करते हैं,
मैं तो मर कर भी मेरी जान तुझे चाहूँगा…!!

Mirza Ghalib

मैं चमन में क्या गया गोया दबिस्ताँ खुल गया,
बुलबुलें सुन कर मिरे नाले ग़ज़ल-ख़्वाँ हो गई…!!

Mirza Ghalib

शहरे वफा में धूप का साथी नहीं कोई,
सूरज सरों पर आया तो साये भी घट गए…!!

Mirza Ghalib

उस पे आती है मोहब्बत ऐसे,
झूठ पे जैसे यकीन आता है…!!

Mirza Ghalib

खुद को मनवाने का मुझको भी हुनर आता है,
मैं वह कतरा हूँ समंदर मेरे घर आता है…!!

Mirza Ghalib

फिर आबलों के ज़ख़्म चलो ताज़ा ही कर लें,
कोई रहने ना पाए बाब जुदा रूदाद-ए-सफ़र से…!!

Mirza Ghalib

एजाज़ तेरे इश्क़ का ये नही तो और क्या है,
उड़ने का ख़्वाब देख लिया इक टूटे हुए पर से…!!

Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari में Mirza Ghalib Shayari से रिलेटेड हमारी इस Site SHAYARIBABA.COM में और भी Shayari और Status हैं। जैसे Dhoka Shayari, Khushi Shayari, Hindi Shayari, आदी हैं। जिनको आप फ्री में पढ़कर अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकतें हैं।