150+ Gussa Shayari in Hindi (Best Gussa Shayari)

Gussa Shayari, Gussa Shayari in Hindi, Best Gussa Shayari, Best Gussa Shayari in Hindi, Jabrdast Gussa Shayari, Jabardast Gussa Shayari in Hindi

Gussa Shayari में हर किसी की नाराजगी या गुस्से को दूर करने के लिए Gussa Shayari Best Collectio है। जिनको आप यूज़ करके किसी का भी गुस्सा या नाराजगी कम कर सकतें हैं।

Gussa Shayari में छोटी-छोटी बातो पर गुस्सा नहीं करना चाहिए। अगर आप से कोई नाराज है तो उसकी नाराजगी दूर करने के लिए आप Gussa Shayari का यूज़ करें तो चलिए शुरू करतें हैं।

मुझ से नफरत वाजिब है तुम्हें,
ये न करोगे तो मोहब्बत हो जायेगी…!!

छोटी छोटी बातें दिल में रखने से.
बड़े बड़े रिश्ते कमजोर हो जाते हैं…!!

Gussa Shayari, Gussa Shayari in Hindi, Best Gussa Shayari, Best Gussa Shayari in Hindi, Jabrdast Gussa Shayari, Jabardast Gussa Shayari in Hindi
Gussa-Shayari

गुस्सा होने के बाद भी,
एक दूसरे की परवाह करना,
यही तो सच्चे रिश्ते की निशानी है.!!

तुम को आता है प्यार पर ग़ुस्सा,
मुझ को ग़ुस्से पे प्यार आता है…!!

समझ नहीं आता क्यों खफा हूँ इतनी,
गुस्सा है तुझपे या याद आ रही है…!!

Gussa Shayari, Gussa Shayari in Hindi, Best Gussa Shayari, Best Gussa Shayari in Hindi, Jabrdast Gussa Shayari, Jabardast Gussa Shayari in Hindi
Gussa-Shayari

गुस्सा इतना कि पूछो मत…
ओर मासूमियत ऐसी की कभी देखी नहीं…!!

तुम्हारा तो गुस्सा भी इतना प्यारा है की,
दिल करता है दिन भर तुम्हे तंग करता रहूँ…!!

जिन्हें गुस्सा आता है वो लोग सच्चे होते हैं,
मैंने झूठों को अक्सर मुस्कुराते हुए देखा है…!!

Gussa Shayari, Gussa Shayari in Hindi, Best Gussa Shayari, Best Gussa Shayari in Hindi, Jabrdast Gussa Shayari, Jabardast Gussa Shayari in Hindi
Gussa-Shayari

उनको आता है प्यार पे गुस्सा,
और मुझे गुस्से पे प्यार आता है…!!

कहीं का ग़ुस्सा कहीं की घुटन उतारते हैं,
ग़ुरूर ये कि हम काग़ज़ पे फ़न उतारते हैं…!!

एक रूठे हुऐ महबूब को मनाने के लिए,
कोई शेर बतलाईये उसको सुनाने के लिए…!!

Gussa Shayari, Gussa Shayari in Hindi, Best Gussa Shayari, Best Gussa Shayari in Hindi, Jabrdast Gussa Shayari, Jabardast Gussa Shayari in Hindi
Gussa-Shayari

कितना गुस्सा था मन में मेरे,
उसके दो आँसू देखकर ही बह गया…!!

तूँ क्या जाने तुझे कितना प्यार करता हूँ मैं,
इक बार नहीं सौ बार करता हूँ मैं…!!

आज दिल कर रहा था, बच्चों की तरह रूठ जाऊ,
पर फिर सोचा क्या फायदा मनाएगा कौन…!!

Gussa Shayari, Gussa Shayari in Hindi, Best Gussa Shayari, Best Gussa Shayari in Hindi, Jabrdast Gussa Shayari, Jabardast Gussa Shayari in Hindi
Gussa-Shayari

तुम जब गुस्सा हो जाते हो तो ऐसा,
लगता है मनाते मनाते ज़िन्दगी गुजार दूँ..!!

सिर्फ इसके होंट कागज़ पर बना देता हूँ,
खुद बना लेती है होटों पर हसी अपनी जगह…!!

दिल की आग कभी होटों पे मत लाना दोस्त,
बेकसूर लोग जल जायेंगे गुस्सा मत करना कभी…!!

Gussa Shayari, Gussa Shayari in Hindi, Best Gussa Shayari, Best Gussa Shayari in Hindi, Jabrdast Gussa Shayari, Jabardast Gussa Shayari in Hindi
Gussa-Shayari

मेरा गुस्सा वहाँ पर ख़त्म हो जाता है जहाँ
प्यार से वो पगली बोलती है अच्छा बाबा सॉरी…!!

वो गुस्सा वो तक़रीरे ज़ाया लगती थी कभी,
वालिद का दिया वही हुनर अब बेटे पे आजमाया है…!!

गुस्सा आना सबके लिए जरूरी है,
पर गुस्सा निकालना कहा है ये समझना जरूरी है…!!

Gussa Shayari, Gussa Shayari in Hindi, Best Gussa Shayari, Best Gussa Shayari in Hindi, Jabrdast Gussa Shayari, Jabardast Gussa Shayari in Hindi
Gussa-Shayari

गुस्सा इतना है कि तुमसे कभी बात भी न करू,
फिर भी दिल में तेरी फ़िक्र खुद से ज्यादा है…!!

हर चेहरे पर उदासी है गम है या फिर गुस्सा है,
शहर मैं ये कौनसी खैरात बंट रही है इन दिनो…!!

जब तक तेरा इतराना और गुस्सा करना बाकी है,
अपने आप को अहले इल्म में शुमार न कर…!!

Gussa Shayari, Gussa Shayari in Hindi, Best Gussa Shayari, Best Gussa Shayari in Hindi, Jabrdast Gussa Shayari, Jabardast Gussa Shayari in Hindi
Gussa-Shayari

तुझे गुस्सा दिलाना एक साजिश है मेरी,
तेरा रूठ कर मुझपर यूँ हक़ जताना अच्छा लगता है…!!

गुस्सा, नाराज़गी, शिकायतें सब अपनो से होता हैं,
अफसोस तुम्हारी लापरवाही ने ये हक़ अब खो दिया…!!

मुझे उसकी मासूम अदा बहुत भाती है,
नाराज़ मुझसे होती है और गुस्सा सबको दिखाती है…!!

Gussa Shayari, Gussa Shayari in Hindi, Best Gussa Shayari, Best Gussa Shayari in Hindi, Jabrdast Gussa Shayari, Jabardast Gussa Shayari in Hindi
Gussa-Shayari

उसका गुस्सा और मेरा प्यार एक जैसा है,
क्योंकि ना तो उसका गुस्सा कम होता है,
और ना मेरा प्यार…!!

कभी वो गुस्सा करती हैं कभी हम गुस्सा करते हैं,
भूल जाते हैं हर बार पर दोबारा वही किस्सा करते हैं…!!

तुम जब हँसी दबाकर गुस्सा दिखाते हो ना,
मुझे तुमसे वही पहला प्यार बार-बार हो जाता है…!!

Gussa Shayari, Gussa Shayari in Hindi, Best Gussa Shayari, Best Gussa Shayari in Hindi, Jabrdast Gussa Shayari, Jabardast Gussa Shayari in Hindi
Gussa-Shayari

उसकी ये मासूम अदा मुझको बेहद भाती है,
वो मुझसे नाराज़ हो तो गुस्सा सबको दिखाती है…!!

उसका गुस्सा और मेरा प्यार एक जैसा है,
क्योंकि ना तो उसका गुस्सा कम होता है,
और ना मेरा प्यार…!!

तुम कभी कभी गुस्सा कर लिया करो
मुझ पर मेरे सनम यकीन हो जाता है,
कि तुम मुझे अपना तो समझते हो…!!

सबसे ज्यादा गुस्सा खुद पर तब आता हैं,
जब प्यार भी हम करें, इंतज़ार भी हम करें,
जताये भी हम और रोयें भी हम…!!

Gussa Shayari, Gussa Shayari in Hindi, Best Gussa Shayari, Best Gussa Shayari in Hindi, Jabrdast Gussa Shayari, Jabardast Gussa Shayari in Hindi
Gussa-Shayari

उसकी आंखों में पढ़ ली थी वो बाते मैंने,
जिन्हे छुपाने के लिए वो गुस्सा दिखाया करती थी…!!

गुस्सा इतना की कॉल नहीं उठाना,
मेसेज का रिप्लाइ नहीं करना और,
मोहब्बत इतनी की बार बार चेक करना,
की कुछ मेरे लिए पोस्ट किया की नही…!!

किसी ने एक नाराज शख्स से पूछा की गुस्सा क्या है,
उसने बहुत खुबसूरत जवाब दिया,
की दूसरे की गलती की सजा खुद को देना…!!

मैं गुस्सा करता हूँ तो तुम उदास होती हो,
अकेले में तुम सिसक-सिसक के रोती हो,
तुम भी ना रोती मेरे गुस्से पे गर पता होता तुमको,
परवाह तुम्हारी हर पल रहती मुझको…!!

Gussa Shayari, Gussa Shayari in Hindi, Best Gussa Shayari, Best Gussa Shayari in Hindi, Jabrdast Gussa Shayari, Jabardast Gussa Shayari in Hindi
Gussa-Shayari

तुम पर गुस्सा आता ही नहीं,
ना जाने कितनी मुहब्बत कर बैठा हूँ तुमसे…!!

ऊपर से गुस्सा दिल से प्यार करते हो,
नज़रें चुराते हो दिल बेक़रार करते हो,
लाख़ छुपाओ दुनिया से मुझे ख़बर है,
तुम मुझे ख़ुद से भी ज्यादा प्यार करते हो…!!

गुस्सा न करो इतना कि वो शिकायत बन्न जाये,
रहो न दूर इतना के हम अकेले हो जाये,
दुनिया का एक रिवाज हमे भी पता है,
प्यार न करो किसी से इतना की वो जरुरत बन जाये…!!

ज़िन्दगी की राहों में आपको कभी न छोड़ूंगा,
ये मासूम सा दिल आपका कभी न तोड़ूंगा,
चाहे हो जाओ कितना भी गुस्सा हमसे,
फिर भी आपसे कभी मुह नहीं मोडूगा…!!

गुस्सा तुमसे करता हूँ अपना समझ के,
इस बात का डर लगता है,
दूर न हो जाओ कही तुम मुझसे,
दूर न होना मुझको तुम बेगाना समझ के,
जीना मुश्किल हो जायेगा बिछुड़ के तुझसे…!!

प्यार भी तुमसे, तकरार भी तुमसे,
नाराज न होना तुम प्रिये,
मेरी जिंदगी की बहार है तुमसे,
भूल कर भी साथ न छोड़ना पागल हो जाऊंगा,
अगर जो टूट गई जिंदगी की डोर तुमसे…!!

दोस्तों Gussa Shayari को शुरू से आखिर तक पढ़ने के लिए में आपको दिल से धन्यवाद करता हूँ। और आशा करता हूँ की आप सभी को ये पसंद आई होगी। तो दोस्तों Like, कमेंट और शेयर करना ना भूलें।